🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃 राधे राधे ॥ आज का भगवद चिन्तन ॥ 16-01-2021 सुख का अर्थ कुछ पा लेना नहीं अपितु जो

🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃

राधे राधे ॥ आज का भगवद चिन्तन ॥
16-01-2021

सुख का अर्थ कुछ पा लेना नहीं अपितु जो है उसमे संतोष कर लेना है। जीवन में सुख तब नहीं आता जब हम कुछ पा लेते हैं बल्कि तब आता है जब सुख पाने का भाव हमारे भीतर से चला जाता है।

सोने के महल में भी आदमी दुखी हो सकता है यदि पाने की इच्छा समाप्त नहीं हुई हो और झोपड़ी में भी आदमी परम सुखी हो सकता है यदि ज्यादा पाने की लालसा मिट गई हो तो। असंतोषी को तो कितना भी मिल जाये वह हमेशा अतृप्त ही रहेगा।

सुख बाहर की नहीं, भीतर की संपदा है। यह संपदा धन से नहीं धैर्य से प्राप्त होती है। हमारा सुख इस बात पर निर्भर नहीं करता कि हम कितने धनवान है अपितु इस बात पर निर्भर करता है कि है कि कितने धैर्यवान हैं। सुख और प्रसन्नता आपकी सोच पर निर्भर करती है।

*जय श्री राधे कृष्णा*

🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃🌹🍃

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

[responsive-slider id=1864]

Related Articles

Close
Avatar