जयपुर. आमजन के साथ-साथ राजस्थान पुलिस को भी गहलोत सरकार के बजट से काफी उम्मीदें हैं

जयपुर. आमजन के साथ-साथ राजस्थान पुलिस को भी गहलोत सरकार के बजट से काफी उम्मीदें हैं. रिटायर्ड पुलिस अधिकारी राजेन्द्र सिंह का मानना है कि मौजूदा दौर में पुलिस विभाग नफरी की कमी से जूझ रहा है. इसी की वजह से थानों में काम करने वाले पुलिसकर्मियों पर काम का अतिरिक्त बोझ है. इसके चलते वे 24 घंटे काम कर रहे हैं, इसीलिए पुलिसकर्मी तनाव में आ रहे हैं. वहीं छुट्टी की बात की जाए तो पुलिसकर्मियों (Police) को अवकाश भी नहीं मिलता. ऐसे में हर बार की तरह इस बार भी पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश की उम्मीद है. वहीं पुलिस के जवान 3600 ग्रेड पे की भी मांग कर रहे हैं. इसके अलावा ज्यादा ड्यूटी के लिए 50% अलाउंस भी पुलिसकर्मियों को दिया जाए. वहीं पुलिस विभाग में भर्ती आयोग का गठन भी हो जिसके चलते समय पर पुलिसकर्मियों को प्रमोशन मिले. वहीं ट्रांसफर पॉलिसी में भी पारदर्शिता लाने की मांग है.

आपको बता दें पुलिस महकमे में ऑफिस में काम करने वाले पुलिसकर्मियों को शनिवार और रविवार दोनों दिन का अवकाश मिलता है , जबकि फील्ड में काम करने वाले पुलिसकर्मियों को कोई अवकाश नहीं मिलता. इसी के चलते एक बार फिर से साप्ताहिक अवकाश की मांग उठी है. वही मौजूदा दौर में साइबर अपराध तेजी से बढ़ा है ,गहलोत सरकार को जरूरत है इस विषय पर ज्यादा फोकस करें.

ये भी पढ़ें: Jodhpur News: आर्म्स एक्ट मामले में सलमान खान को मिली बड़ी राहत, राजस्थान सरकार की दलील खारिज

अत्याधुनिक हथियार की जरूरत

रिटायर्ड पुलिस अधिकारी राजेन्द्र सिंह का कहना है कि पुलिस कर्मियों को ज्यादा से ज्यादा साइबर ट्रेनिंग दी जाए. पुलिस कर्मियों को मिलने वाले मैस अलाउंस को भी बढ़ाया जाए. इसके साथ ही थानों में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएं. वहीं पुलिस थानों के खर्चे में भी बढ़ोतरी हुई है. जरूरत है थानों के खर्चों के लिए उन्हें अतिरिक्त बजट दिया जाए. वहीं आतंकवादी , गैंगवार सहित अन्य गतिविधियों मौजूदा दौर में बढ़ी हैं, ऐसे में थानों में पुलिसकर्मियों को एके-47 जैसे अत्याधुनिक हथियार भी दिए जाए.

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

[responsive-slider id=1864]

Related Articles

Close
Avatar