मध्य प्रदेश- सीधी बस हादसे में अब तक 51 शव मिले, फरार ड्राइवर गिरफ्तार news11 इंडिया टीवी से उप संपादक रमेश रैकवार की रिपोर्ट

*सीधी बस हादसे में अब तक 51 शव मिले, फरार ड्राइवर गिरफ्तार*

दबंग भोपाल,सीधी!सीधी जिले में मंगलवार सुबह यात्रियों से भरी बस सोन नदी पर बने बाणसागर बांध की मुख्य नहर में समा गई। बुधवार सुबह 4 और शव नहर से निकाले गए, इसके साथ ही मृतकों की संख्या 51 पहुंच गई है। सीएम शिवराज सिंह चौहान आज दोपहर रामपुर नैकिन पहुंचकर घटना स्थल का निरीक्षण करेंगे और पीड़‍ित के परिजनों से मुलाकात करेंगे। इस मामले में जिम्मेदारों पर कार्रवाई हो सकती है।

*बस ड्राइवर गिरफ्तार*

सीधी बस हादसे में पुलिस ने ड्राइवर बालेन्‍दु को गिरफ्तार कर लिया है। ड्राइवर का कहना है कि अचानक बस में आवाज आई और वह सड़क से उतरकर नहर में चली गई। मेरे पहले एक लड़की बस से निकली और फिर मैं, ग्रामीणों ने रस्सी के जरिए हमें बाहर निकाला। घटना के बाद से ड्राइवर फरार हो गया था, जिसे पुलिस ने दबशि देकर पकड़ा है।

हादसे में प्रभावित यात्री सीधी, रीवा, सिंगरौली व सतना जिले के निवासी हैं। हादसा सुबह साढ़े सात बजे सीधी जिले के रामपुर नैकिन स्थित पटना पुल के पास हुआ। बस सीधी से सतना जा रही थी। संकरी सड़क पर ट्रक से पासिंग लेते समय बस का पिछला पहिया फिसला और बस 22 फीट गहरी नहर में गिर गई। चालक समेत सात लोगों को ग्रामीणों ने सुरक्षित बाहर निकाला। सूचना पाते ही सीधी और रीवा जिले के अधिकारी मौके पर पहुंच गए और स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एसडीआरएफ) की टीम राहत कार्य में जुट गई। सतना-सीधी स्टेट हाईवे पर छुहिया घाटी में पांच दिन से लगे जाम के कारण बस चालक नहर के रास्ते से निकलने की कोशिश कर रहा था। इससे बस नहर में चली गई।

*हादसे की दो बड़ी वजहें..*

*छुहिया घाटी में पांच दिन से लगा है जाम*

पिछले पांच दिन से सीधी-रीवा मार्ग पर छुहिया घाटी में ट्रक खराब हो जाने से जाम लगा हुआ है। यहां का रास्ता पहाड़ी और घुमावदार है। सड़क जर्जर है। जब भी बड़ा वाहन खराब होता है, जाम लग जाता है। घाटी में जाम के कारण ही चालक ने नहर के रास्ते बस निकलने की कोशिश की और हादसा हो गया। पुलिस व प्रशासन जाम को खुलवा देते तो हादसा नहीं होता।

*क्षमता से ज्यादा यात्रियों को बैठाया गया*

बस की क्षमता 32 सीटों की थी, जबकि इसमें 58 यात्रियों को बैठाया था। अमूमन इस क्षेत्र की कई बसों में यही स्थिति है। न तो आरटीओ लगातार चेकिंग करता है और न ही पुलिस-प्रशासन के अधिकारी ध्यान देते हैं। ऐसे में बस संचालकों के हौसले बुलंद हैं। वे क्षमता से अधिक यात्रियों को बैठाकर उनकी जान संकट में डाल रहे हैं।

*बस हादसे में मृतकों की संख्या 51 पहुंची , देखिये सूची*

*48. देवेश प्रजापति पिता दीनदयाल प्रजापति, उम्र 22 साल निवासी सपनी द्वारी सीधी*

*49.खुशबू पटेल पिता बंशपति पटेल, उम्र 23 साल निवासी पचोखर चुरहट सीधी*

*50. स्वाति प्रजापति प्रताप मनोज प्रजापति, उम्र 19 वर्ष निवासी हरफरी चितरंगी* सिंगरौली

*51. सौम्या गौड़ पिता हरिप्रताप, उम्र 5 माह निवासी देवसर सिंगरौली*

*मृतकों के स्वजनों को 7-7 लाख का मुआवजा*

बस हादसे में मृतकों के स्वजन को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पांच-पांच लाख रुपये मुआवजे का एलान किया है। साथ ही प्रधानमंत्री राहत कोष से पीएम नरेंद्र मोदी ने मृतकों के स्वजन को दो-दो लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की है।

*लोगों की खोजबीन के लिए 10 घंटे चला बचाव अभियान*

लोगों की खोजबीन के लिए राहत-बचाव कार्य सुबह नौ बजे से शाम सात बजे तक चला। इसमें तीन क्रेन -व 15 बोट लगाई गई थीं। अंधेरा होने से 7 बजे रेस्क्यू बंद कर दिया गया। बुधवार सुबह पांच बजे से फिर अभियान फिर शुरू हो गया और बचाव दल ने 4 और शव नहर से निकाले प्रशासन के अनुसार हादसे में मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

उप संपादक रमेश रैकवार

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

[responsive-slider id=1864]

Related Articles

Close
Avatar