दिल्ली. केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ गुरुवार को किसानों ने देशभर में रेल रोको आंदोलन (Kisan Rail Roko Andolan) का ऐलान किया

दिल्ली. केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ गुरुवार को किसानों ने देशभर में रेल रोको आंदोलन (Kisan Rail Roko Andolan) का ऐलान किया. हरियाणा और मेरठ में जहां किसान रेलवे ट्रैक पर बैठ गए वहीं उत्तर प्रदेश में प्रयागराज में प्रदर्शनकारियों की पुलिस से झड़प भी हुई. गाजियाबाद के मोदीनगर में भारतीय किसान यूनियन के सदस्यों ने पुलिस कर्मियों पर फूलों की पंखुड़ियों की बौछार की. वहीं रेल रोको प्रदर्शन के दौरान किसानों ने पुलिसकर्मियों को मिठाई भी खिलाई. इस दौरान पुलिस ने बीकेयू सदस्यों से अपना आंदोलन समाप्त करने की अपील भी की. उत्तर प्रदेश के हापुड़ में भी किसानों के रेल रोको आंदोलन का असर दिखा.
किसानों के रेलवे ट्रैक बाधित करने का असर ट्रेनों के परिचालन पर भी रहा. ओडिशा की पुरी से उत्तराखंड के हरिद्वार तक जाने वाली उत्कल एक्सप्रेस को गाजियाबाद रेलवे स्टेशन पर रोक दिया गया. किसानों के मोदीनगर रेलवे स्टेशन पर रेल पटरियों को जाम करने की वजह से ट्रेन को रोका गया था.
राकेश टिकैत का बड़ा बयान
केंद्र सरकार के कृषि बिल के खिलाफ गुरुवार को किसान देशभर में रेल रूट को जाम किया. किसानों के रेल रोको आंदोलन के बीच राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को एक तरह से खुली धमकी दे दी है. हरियाणा के खरक पुनिया में बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्र सरकार को किसी भी तरह कि गलत धारणा नहीं होना चाहिए कि किसान फसल की कटाई के लिए वापस जाएंगे. टिकैत ने कहा कि अगर वे जोर देते हैं, तो हम अपनी फसलों को जला देंगे. सरकार को ये नहीं सोचना चाहिए कि विरोध 2 महीने में खत्म हो जाएगा. हम फसल के साथ-साथ विरोध करेंगे.सरकार पर निशाना साधते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि फसलों की कीमतों में इजाफा नहीं हुई है, लेकिन ईंधन की कीमतें बढ़ गई हैं. अगर केंद्र ने स्थिति को बर्बाद कर दिया, तो हम अपने ट्रैक्टरों को पश्चिम बंगाल में भी ले जाएंगे. किसानों को वहां भी एमएसपी भी नहीं मिल रही.

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

[responsive-slider id=1864]

Related Articles

Close
Avatar