चित्रकूट- राजकीय महाविद्यालय मानिकपुर चित्रकूट कि राष्ट्रीय सेवा योजना के विशेष शिविर का समापन

राजकीय महाविद्यालय मानिकपुर चित्रकूट कि राष्ट्रीय सेवा योजना के विशेष शिविर का समापन हो गया l समापन के अवसर पर महाविद्यालय के संरक्षक प्राचार्य डॉ दुर्गेश कुमार शुक्ल जी ने माँ सरस्वती कि प्रतिमा का मल्ल्यायार्पण व दीप प्रज्वलन किया l छात्राओं ने सामूहिक नृत्य के साथ सरस्वती वन्दना प्रस्तुत की l अतिथियों के लिए स्वागत गीत सत्या ने प्रस्तुत किया l मुख्य अतिथि प्राचार्य महोदय का माल्यार्पण एवं स्वागत कार्यक्रम अधिकारी डॉ हेमन्त कुमार बघेल ने किया l कार्यक्रम की अगली कड़ी में महाविद्यालय की छात्राओं ने राई नृत्य प्रस्तुत किया l दहेज गीत छात्रा गुड़िया ने तथा दहेज पर एक भजन माया देवी ने प्रस्तुत किया l देश भक्ति कविता पाठ शालू द्विवेदी ने प्रस्तुत किया l छात्र विनोद कुमार ने सात दिवसीय विशेष शिविर की पूरी गतिविधियों पर संक्षिप्त परिचय प्रस्तुत किया l राधा कृष्णा का नृत्य आयुषी एवं दीप्ति ने प्रस्तुत किया l इस अवसर पर प्राचार्य महोदय ने अपने सम्बोधन में बताया कि राष्ट्रीय सेवा योजना की गतिविधियों में भाग लेने वाले विद्यार्थी, समाज के लोगों के साथ मिलकर समाज के हित के कार्य करते हैं l साक्षरता संबंधी कार्य, पर्यावरण सुरक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य एवं सफाई आपातकालीन या प्राकृतिक आपदा के समय पीडित लोगों की सहायता आदि। विद्यार्थी जीवन से ही समाजपयोगी कार्यों में रत रहने से उनमें समाज सेवा या राष्‍ट्र सेवा के गुणो का विकास होता है। स्वैच्छिक समुदाय सेवा के माध्यम से छात्रों के व्यक्तित्व और चरित्र के विकास के प्राथमिक उद्देश्य के साथ राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) को शुरू किया गया था। एनएसएस का उद्देश्य ‘सेवा के माध्यम से शिक्षा’ है। एनएसएस की वैचारिक उन्मुखता महात्मा गांधी के आदर्शों से प्रेरित है। एनएसएस का आदर्श वाक्य “नॉट मी, बट यू” है। एक एनएसएस स्वयंसेवी ‘स्वयं’ से पहले ‘समुदाय’ को स्थान देता है। यह शिक्षा के तीसरे आयाम का हिस्सा हैl इस अवसर पर दोनों कार्यक्रम अधिकारी डॉ हेमन्त कुमार बघेल एवं डॉ कीर्ति शुक्ला उपस्थित थे l मंच संचालन श्री सुनील कुमार मिश्र जी ने किया l

[News 11 India TV]
[उप सम्पादक रमेश रैकवार]

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

[responsive-slider id=1864]

Related Articles

Close
Avatar