चित्रकूट – महिला शिक्षिका की मौत के मामले में यशोदा अस्पताल पर कार्यवाही करने से क्यों बच रहा है स्वास्थ्य विभाग

चित्रकूट
महिला शिक्षिका की मौत के मामले में यशोदा अस्पताल पर कार्यवाही करने से क्यों बच रहा है स्वास्थ्य विभाग


जानकारी के अनुसार मानकों में भारी कमियां होने के बाद भी अब तक नही हुई कोई भी कार्यवाही ! जिले में संचालित अधिकांश नर्सिंग होम्स द्वारा इलाज के नाम पर की जा रही है ठगी और मौत का सिलसिला लगातार जारी। मृतक महिला शिक्षिका के पीड़ित परिवार को मिल रही है धमकियां , भाई ने कहा – परिवार को जान का खतरा । उधर पीड़ित परिवार कोतवाली पुलिस की विवेचना से भी नही है सन्तुष्ट, मामले को दबाने का किया जा रहा प्रयास। घटना के कई दिन भी सभी आरोपियों को पकड़ने में कोतवाली पुलिस नाकाम। पकड़े गए एक आरोपी की मेहमानवाजी में व्यस्त खाकी। स्वास्थ्य विभाग की जांच टीम ने मौत का व्यापार करने वाले सिंडिकेट के सामने डाले हथियार ! सूत्रों की मानें तो जांच के नाम पर लीपापोती करके आरोपियों को बचाने का किया जा रहा पूरा प्रयास ।अब देखना होगा कि क्या सच को निगल जाएगा स्वास्थ्य विभाग ? या फिर ऐसे नर्सिंग होम्स पर लगेगा ताला ! गौरतलब हो कि जिला मुख्यालय सहित राजापुर,मऊ, बरगढ़ और मानिकपुर इलाके में धड़ल्ले से चल रहे हैं मौत परोसने वाले अवैध नर्सिंग होम, रजिस्ट्रर्ड नर्सिंग होम्स के मानकों की भी होनी चाहिए जांच
[News 11 India TV]
[उप सम्पादक रमेश रैकवार]

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

[responsive-slider id=1864]

Related Articles

Close
Avatar